दीपक

जब सम्पूर्ण मनव समान है तो धर्म अलग अलग क्यों ?

इस्लाम हमें अपने निर्माता और मालक से मिलाता है

इस्लाम हमें अपने निर्माता और मालक से मिलाता है

 safe_image इस्लाम हमें उस ईश्वर और अल्लाह से मिलाता है जो अकेला हैउस का कोई साझीदार नहींवह अद्वितीय हैअनादी हैअनन्त है और अविनाशी हैउसी ने इस पूरी सृष्टि की रचना कीवह किसी काम के लिए किसी का मुहताज नहीं हैप्रकृती और जीव भी अपने आप नहीं हैंउनको भी अल्लाह ही ने उत्पन्न किया है। उसी की आज्ञानुसार सब कुछ होता है । वह न खाता हैन पिता हैऔर न सोता है। वही रोगी को अच्छा करता हैवही तकलीफों को दूर करता है । वह किसी का मुह़ताज नहीं और न उसे किसी चीज़ की ज़रुरत । वही अकेला इबादत और प्रार्थाना का अधिकारी हैबाक़ी सब उसके पुजारी और उपासक हैं,चाहे वह कैसा ही गुणवान हो ।वह पिता पुत्र पति पत्नी जैसे संम्बन्धों से मुक्त हैउसी प्रकार वह किसी भी प्राणी का रुप धारण नहीं करतान वह किसी कार्य के लिए शरीर धारण करने पर बाध्य है । उसने केवल अपनी इच्छा शक्ति से इतने बढे सृष्टि की रचना कर दी तो किसी कार्य के लिए उसको शरीर धारण करने की क्या आवश्यकतायह उसकी पवित्रता के विरुद्ध है । इस्लाम हमारे माथे का सम्मान करता है कि उसे केवल अल्लाह के सामने ही झुकना चाहिए जिसने हमें, हमारे पूर्वजों को और संसार के प्रत्येक जीव को पैदा किया, हम पर हर प्रकार के उपकार किए तो स्वाभाविक रूप में पूजा भी तो उसी एक अल्लाह की होनी चाहिए। क़ुरआन कहता हैः

ऐ लोगो! अपने उस पालनहार की इबादत करो जिसने तुम को और तुम से पहले के लोगों को पैदा किया ताकि तुम परहेज़गार बन जाओ। जिसने तुम्हारे लिए धरती को बिछावन और आकाश को छत बनाया, और आकाश से वर्षा की और उस से फल पैदा कर के तुम्हें जीविका प्रदान की। अतः यह जानते हुए किसी को अल्लाह का भागीदार न बनाओ।”  (सूरः2 आयत 21-22)  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

Leave a Reply